मंजूरी डेका को मिला राष्ट्रीय शिक्षा रत्न पुरस्कर-2021

विश्वनाथ, असम निवासी युवा शिक्षिका/साहित्यकार आ. *मंजूरी डेका* को “राष्ट्रीय शिक्षा रत्न पुरस्कर 2021” से नवाजा गया है।
हाल ही में मनुष्य बल विकास लोकसेवा अकादमी, मुंबई द्वारा शिक्षा और साहित्य के क्षेत्र में योगदान हेतु आ. मंजूरी डेका को *राष्ट्रीय शिक्षा रत्न पुरस्कार 2021* से अलंकृत किया गया। शिक्षा के क्षेत्र में नवीन टेक्नेकोलॉजी प्रयोग कर नवाचार द्वारा छात्रों में पढ़ाई के प्रति आग्रह जागृत करना उनका मुख्य उद्देश्य रहा है। मुंबई में आयोजित ग्लोबल अचीवर्स एवं टीचर्स अवार्ड कार्यक्रम में मुख्य अतिथि पद्मश्री डॉ विज्य कुमार शाहजी और कृष्णा जी जगदाले जी की उपस्थिति में यह पुरस्कर ऑनलाइन प्रदान किया गया। Us कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रुप में दक्षिण अफ्रीका की समाजसेवी मिस मंडीसा मोटोलो जी थी।
मंजूरी डेका को मिले राष्ट्रीय पुरस्कार से परिवार, रिश्तेदारों, मित्रों, शुभचिंतकों,शिक्षकों में हर्ष हैं।
अनेक साहित्यिक, सामाजिक, शैक्षिक संगठनों ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए मंजूरी को बधाइयाँ और शुभकामनाएं देते हुए कहा कि
सुलक्ष्य और हिंदी प्रेम के लिए आपको साधुवाद ,आपने हम सबका मान बढ़ाया है।
ज्ञातव्य है कि मंजूरी डेका पूर्वोत्तर भारत का हरा – भरा अहिंदी प्रदेश असम, विश्वनाथ शहर की निवासी है। आप पेशे से सरकारी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय की शिक्षिका है। पिछले 8 वर्षों से शिक्षा के क्षेत्र में विभिन्न सृजनात्मक काम करती आ रही हैं। साथ ही साथ साहित्य साधना भी करती हैं। वृक्ष रोपण कार्य भी करते हैं। असम के लोक साहित्य तथा समाज के उत्थान के लिए निरंतर प्रयासरत हैं। आप ने कुछ सज्जन व्यक्तियों के साथ मिलकर ‘मानवता ‘ नामक एक स्वयंसेवी समूह का प्रारंभ किया है; जो स्वयं को स्वयं से जोड़ने का कार्य कर रही है। समाज के प्रति कुछ करने की क्षुधा को शांत कर रही है। लक्ष्य यह है कि दूसरों को भी समाज के प्रति सशक्त, दायित्वशील होने के लिए अनुप्रेरित करें। कई हिंदी तथा असमिया पत्रिकाओं, आलोचना मूलक पुस्तकों में आपकी मौलिक रचनाएं प्रकाशित हो चुकी है। आप लेखन के ज़रिए हिंदी प्रसार- प्रचार एंव हिंदी भाषा और हिंदी प्रेमियों को एक सूत्र में पिरोने का महत्वपूर्ण सराहनीय कार्य करती आ रही हैं। आपकी इच्छा है कि असम की लोक साहित्य एवं संस्कृति को हिंदी भाषा के माध्यम से विश्व दरबार में प्रतिष्ठित करे।
*सम्मान* – 2020 ‘शिक्षक दिवस’ की सुअवसर पर ‘बृजलोक साहित्य कला संस्कृति अकादमी’,उत्तर प्रदेश द्वारा ‘आदर्श शिक्षिका’ और ‘साहित्य संगम संस्थान, के द्वारा कई सम्मान से सम्मानित किया गया है। द ग्राम टुडे दैनिक सामाचार पत्र (देहरादून) द्वारा “साहित्य शक्ति” सम्मान से नवाजा गया । नवीन कदम समाचार पत्र परिवार (छत्तीसगढ़) ने आपको हिंदी भाषा सेवाओं के लिए “हिंदी सेवी सम्मान 2021”, विभिन्न मंचों द्वारा आप हिंदी साहित्य सेवा के लिए 150 से भी ज्यादा विविध सम्मानों से सम्मानित किया है। हम हिंदुस्तानी अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया से प्रकाशित अंतरराष्ट्रीय समाचार पत्र, इंदौर समाचार पत्र, द ग्राम टुडे समाचार पत्र, सृजन ऑस्ट्रेलिया, पूर्वोदय समाचार पत्र (असम) तथा विभिन्न मासिक पत्रिकाओं आदि में आपकी विभिन्न साहित्यिक विधाओं की रचनाएं प्रकाशित हो चुकी हैं ।
विशेष यह है कि आ. मंजूरी “साहित्य संगम संस्थान असम इकाई” की कार्यकारी अध्यक्ष पद पर पदासीन है। अरविंद सोसायटी द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में आपकी नवाचार को सराहा गया है।
आ. मंजूरी डेका को सम्मानित किए जाने पर गोण्डा, उ. प्र. के वरिष्ठ साहित्यकार/कवि आ. सुधीर श्रीवास्तव जी ने फोनकर उनकी उपलब्धि पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए बधाइयाँ, शुभकामनाएं और आशीर्वाद देते हुए विश्वास व्यक्त किया है कि आप निरंतर अपनी गतिविधियों से हम सभी को गौरवशाली क्षणों का अवसर प्रदान करती रहेंगी। आपकी सुलक्ष्य और हिंदी प्रेम के लिए आपको साधुवाद, आपकी सुदूरगामी सोच को विश्वव्यापी प्रतिष्ठा मिले, ऐसी शुभेच्छा है। मां शारदा की कृपा, आशीर्वाद सदा आप पर बनी रहे।

Share

Leave a Comment