आज के शिक्षक

आज के शिक्षक
*************

कलम
आँसू बहाये
देख सब मुस्काये
कलम की
दुर्दशा।

*****
जलते
दीपक जलाते
पन्ने पुस्तकों के
जंजीरों में
शिक्षक।

*****
विद्यालय
शिक्षक रहते
कभी नहीं मुस्कुराते
जहाँ वातावरण
तनावग्रस्त।
*****
बोरियां
चावल वाली
जब होती खाली
गिनती रखते
शिक्षक।

*****
किरानी
साहब चपरासी
जब डाँट पिलाते
आँसू पीते
शिक्षक।

*****
रास्ते
सुगम-दुर्गम
जंगल झाड़ पहाड़
मिलते सर्वत्र
शिक्षक।

*****
@श्रीराम रॉय

Share

Leave a Comment