आवो हमसब मिलकर नया नूतन वर्ष मना लेँ-वी अरूणा

आवो हमसब मिलकर नया नूतन वर्ष मना लेँ।
ग्रह विहीन वन वन प्रयास का तप्त आंसुओं तप्त स्वास का ।
एक और युग बीत रहा है ।
और इस पर हर्ष मना लेँ ।
आवों नूतन वर्ष मना लेँ।
उठो मिटा दे आशाओं को दबी छिपी अभिलाषाओँ का।
आओ निर्ममता से उर में
या अंतिम संघर्ष मना लेँ
आयो नूतन वर्ष मना लेँ।
हुई बहुत दिन खेल मिचौनी
बात यही थी निश्चित होनी।
आओ सदा दुखी रहने का जीवन में आदर्श बना लेँ।
आओ नूतन वर्ष मना लेँ
आवों नूतन वर्ष मना लेँ

वी अरूणा कोलकाता

Share