नव वर्ष -अमरनाथ सोनी -अमर

नव वर्ष काव्य प्रतियोगिता! बिधा – गीत!
मात्रा भार- 16-14.
शीर्षक एबं बिषय- नव वर्ष में नव सृजन!

नवल वर्ष का स्वागत कर लें, नव- नूतन -निर्मान करें!
नये वर्ष के इस वेला में, जन जागृति अभियान भरें!
दीन -दुखी अरु असहायों का, सब मिल कर कल्यान करें!
स्वागत नूतन नवल वर्ष में, आओ नया बिहान करें!!

हम सब मिलकर महाक्रांति का, आयें अब गुणगान करें!
हम भारत में नई व्यवस्था, प्रेरित जन उत्थान करें!
मृत आत्मा के इस काया मे, अब प्राणों संचार भरे!!
स्वागत नूतन नवल वर्ष में, आओ नया बिहान करें!!

आजीवन जो मारे फिरते, अब तो जीवन दान मिले!
अब हड्डी जो शेष बची है, अब उसको नव प्रान मिले!!
कृषक, श्रमिक ,शोषित, बंचित, के, उत्थान हेतु रण में उतरें!
स्वागत नूतन नवल वर्ष में, आओ नया बिहान करें!!

सत्ता और सियासत धारी,
अहंकार मद मान भरे
उनका करें सफाया बिलकुल, सोच -समझ मत दान करें!!
मत देना है उनको यारो, जो सब जन का ध्यान धरें!
स्वागत नूतन -नवल वर्ष में, आओ नया बिहान करें!!

सबके जीवन में सुख देकर, वह अच्छा नेतृत्व करे!
जनगण का दुख -सुख वह समझे, कभी लूट नहि सत्व करे!
भारत सपना देख रहा है, सब जन भव को पार करें!
स्वागत नूतन नवल वर्ष में, आओ नया बिहान करें!!

अमरनाथ सोनी “अमर ”
9302340662
मौलिक एबं स्वरचित रचना!

Share

Leave a Comment