स्वागत करते नया साल का-अमित कुमार द्विवेदी

नववर्ष काव्य प्रतियोगिता
********************
गीत

———
शीर्षक–स्वागत करते नया साल का
———————————
स्वागत करते नया साल का स्वागत करते हैं।
स्वागत वंदन अरु अभिनंदन स्वागत करते हैं।।
नवगति नवलय मुक्त कंठ से,
नवल कंठ नव छंद लिए हम।
स्वागत बारंबार तुम्हारा स्वागत करते हैं।
स्वागत करते नया साल का स्वागत करते हैं।।
विकट चुनौती तेरे सम्मुख,
आतंकवाद हो चाहे कोरोना।
खुशहाली के साथ तुम्हारा स्वागत करते हैं।
स्वागत करते नया साल का स्वागत करते हैं।।
बेरोजगारी या हो शिक्षा,
मंहगाई की नई चुनौती।
भरपाई के साथ तुम्हारा स्वागत करते हैं।
स्वागत करते नया साल का स्वागत करते हैं।।
घना अंधेरा छाया जीवन,
मन में छिपे अधूरे सपने।
सूर्यकिरण के साथ तुम्हारा स्वागत करते हैं।
स्वागत करते नया साल का स्वागत करते हैं।।
धूप छांव आते जाते हैं,
आशारुपी दीप जलाते।
चंद्रकिरण के साथ तुम्हारा स्वागत करते हैं।
स्वागत करते नया साल का स्वागत करते हैं।।
दुःखी न हो किसी जीवन,
सुखी रहें सभी आजीवन।
आशाओं के साथ तुम्हारा स्वागत करते हैं।
स्वागत करते नया साल का स्वागत करते हैं।।

(रचना मौलिक) नव वर्ष उत्सव हेतु…02/12/21
अमित कुमार द्विवेदी
रीवा (मध्यप्रदेश)

Share

4 thoughts on “स्वागत करते नया साल का-अमित कुमार द्विवेदी”

Leave a Comment