नव वर्ष-अंशु तिवारी

नव वर्ष–
———
नव वर्ष का स्वागत
बाहें फैलाए पलके बिछाए
कर रही हूं मैं,
अभी खुशियों ने शुरू ही किया
दस्तक देना ,तभी यह क्या
यह नई मुसीबत ओमीक्रानऔर
उसके वैरीअंट ने तहलका मचा दिया,
क्या यह कोरोना हमारे साथ ही
2022 का स्वागत करेगा??
बहुत हो चुका अब
भय के साए में जीना।
नव वर्ष ,नई चेतना
नई उमंगे ,नए इरादे
नई खुशियां मजबूत इरादे
लेकर के यह आएगा,
बहुत हो चुका डरना अब तो
लोहा लेने को तैयार हैं हम
इस महामारी संग
जीना सीख लिया हमने
इसे टैकल कैसे करना
खुद को यह सिखा दिया ।
मास्क सोशल डिस्टेंसिंग
और वैक्सिन को हथियार बना लिया,
खुद को सिखा लिया हमने
आए चाहे मुसीबत या
महामारी हो कोई बड़ी
जीना सीख लिया हमने।
नए वादे नहीं इरादे संग
नई बुलंदियां छूयेंगे
इस महामारी में भी
हम इतिहास गढ़ लेंगे।
नित नई राहें ढूंढ हम
खुद को आत्मनिर्भर बनाएंगे
नया वर्ष 2022
नई उमंगे नई चेतना नई राहें
ले कर के यह आया है
खुद को आत्मनिर्भर बनाएंगे
तभी हम देश को अपने
प्रगति ले जाएंगे।
मिलकर हम सामना करें महामारी
का राहे नई बनाएंगे।
नव वर्ष के स्वागत मे
हमखूब खुशियां मनाएंगे।
धन्यवाद
अंशु तिवारी पटना

Share

Leave a Comment