हम ऐसे नव वर्ष मनाए-अशोक कुमार जाखड़

नव वर्ष — हम ऐसे नव वर्ष मनाए

एक जनवरी आने वाली है हम ऐसे नव वर्ष मनाए
गिले शिकवे भुला पुराने सब आपस में प्रेम बढ़ाए

बीत गई वो बात गई उन बातो में नही खोना है
गिले शिकवे भुला सभी नव बीज प्रेम का बोना है
जो भी आगे अब होना है आओ उसमे ध्यान लगाए

नही कोई भी विपदा आए रहे खुशी खुशी से नर-नारी
सब प्रभु से अर्ज करो अब नही आए कोई भी महामारी
यह स्वस्थ रहे दुनिया सारी मागे प्रभु से यही दुआए

धन धान्य भरपुर जगत रहे सारा जग खुश हाल रहे
खुशी खुशी संसार रहे नही दिल में कोई मलाल रहे
ऊंचा हिंद का भाल रहे सब मिलके ये मंगल गाए

जलचर,थल चर,नभ-चर सारे जग में जीव आजाद रहे
सीमा रहे सुरक्षित सब की न किसी से कोई विवाद रहे
नही कही अपवाद रहे इसी मानवता को सब अपनाए

कौम एकता रहे देश में सब साक्षरता में ध्यान लगाओ
*विश्व गुरु बन जाए भारत* सारे मिलकर कदम बढ़ाओ
भाई चारा जग में फैलाओ सब खुशीयों का दीप जलाए

एक जनवरी आने वाली है हम ऐसे नव वर्ष मनाए
गिले शिकवे भुला पुराने सब आपस में प्रेम बढ़ाए

अशोक कुमार जाखड़
8307906781

Share