बाल कविता-हिंदी

बाल कविता,(हिंदी)
World हिंदी दिवस पर world of writers की प्रस्तुति

हिंद, हमारा देश है प्यारा,
भाषा एकता अजब नजारा ।
सब भाषाओं की प्राकृति में,
हिंदी का समावेश है न्यारा ।।1
—-
सब भाषा में मूल है हिंदी,
बोलचाल में कबूल हिंदी ‌।
पेड़ यदि सब भाषा हैं तो,
सब पेड़ों का फूल है हिंदी ।।2
——
यह फूल नहीं मुरझायेगा,
खिला है खिलता जायेगा ।
हिंद से यह विश्व लोक तक,
एक माला बनता जायेगा ।।3
——-
सीखेंगे हम सब भाषाऐं,
हिंदी को नहीं भुलायेंगे ।
सब मिल कर संकल्प लें,
हिंदी को प्रथम सिखायेंगे ।।4
——-
भारत मां की शान है हिंदी,
भाषायी पहचान है हिन्दी ।
हिंदु-मुस्लिम,सिक्ख-ईसाई,
चारों वर्ण जुवान हैं हिन्दी ।।5
************
रचना –लखन कछवाहा ‘स्नेही’
10012022

Leave a Comment