बोर्ड परीक्षा तैयारी कविता हो जाओ तैयार_पवन गौतम

बोर्ड परीक्षागत तैयारी कविता भाग प्रथम हो जाओ तैयार बालकों ,हो जाओ तैयार पुस्तक तुम्हारी ढाल बनेगी , कलम बने तलवार ! हो जाओ तैयार बालको , हो जाओ तैयार !! —– बोर्ड की परीक्षा को । पारिणामिक शिक्षा को। गुरुजी की दीक्षा को। कॅरियर सुरक्षा को। दूर कर अशिक्षा को। राष्ट्र की रक्षा को। … Read more

नव वर्ष कविता-पूर्णिमा पटेल

*नववर्ष काव्य प्रतियोगिता* *विधा-कविता* आओ इस नववर्ष पर इक नया संकल्प करें दोस्ती के साथ हम दया का भी विकल्प रखें। नव विहान रश्मियां ले सूर्य उदित हो रहा उल्लास नव तरंग में विश्व मुदित हो रहा। दुखों की वह उदासियाँ स्वयं विस्मृत हो रहीं जागृत हो नव चेतना स्वतः स्फुरित हो रहीं। अनेकता में … Read more

नव वर्ष-सनुक लाल यादव

नव वर्ष उत्सव 💐नव वर्ष 💐 आओ आज नव साल मनाएं, जीवन को खुशहाल बनाएं।। नव किरण का अवगाहन कर, सुरज से हम आँख मिलाएं।। चू -चू करती चिड़िया रोज, स्वर्णिम किरणें लाली में। सतरंगी पंख फैलाए तितली, कोमल कुसुम की रखवाली में। कोयल कुक रहीं हैं बागों में, मधुरता का नित प्रचार करें। प्रकृति … Read more

नया वर्ष 2022-प्रेमशंकर प्रेमी

नया वर्ष– 2022 नये वर्ष में नयी उमंगें लेकर अब हम आएंगे । नए साल की किरणों में गीत खुशी का गाएंगे ।। कितना क्या खोया हमने समय नहीं है गिनती का । नया वर्ष खुशहाल बनावें ध्यान रखें इस विनती का ।। खोया है हमने कितना दें ध्यान न ऐसी बातों पर । आई … Read more

नव वर्ष-प्रदीप शर्मा

नववर्ष की अंतस्तल से, बारम्बार बधाई बारम्बार बधाई सुख समृद्धि पास रहे,रहे तुमसे दूर बुराई। रोगमुक्त तन सदा रहे,महके मन का कोना कोना हे! ईश्वर यही प्रार्थना है,वापस ना आए कोरोना। आमदनी बढ़‌ जाए, बढ़े ना जोरों से मंहगाई नववर्ष की अंतस्तल से, बारम्बार बधाई बारम्बार बधाई। लॉकडाउन के कारण, सबका धंधा पड़ गया मंदा … Read more

नव वर्ष आगमन-विनीता सिंह चौहान

नववर्ष आगमन सुस्वागतम करें , हुआ नववर्ष आगमन। ठंडी फिजाओं को ओढ़ , ओस की रुपहली बूंदों से , कोहरे की घनी चादर से , ढक गया फिर चमन , सुस्वागतम करें , हुआ नववर्ष आगमन। कुछ खट्टे कुछ मीठे पल , मन में सजों सुनहरी यादें , उतार-चढ़ाव के साथ , वर्ष ने फिर … Read more

प्यार का हिंदुस्तान हो- राम रतन श्रीवास “राधे राधे”

“नव प्रेरणा” कविता “प्यार से प्यारभरा ,प्यार का हिंदुस्तान हो” *********************** प्रतिदिन प्रतिपल ,प्रदिप्त प्रतिभावों का हो । ना प्रतिद्वंद्वी , ना प्रतिपक्षता किसी का हो।। प्रेम पथ प्रेम पुजारी, नव प्रेरणा से प्रेरित हो। प्रकृति प्रेम से प्रेममय, नव सृजन पूरित हो।। प्यार से प्यारभरा, प्यार का हिंदुस्तान हो …… पढ़ें पढ़कर बढ़ें, शिक्षा … Read more

नव वर्ष उत्सव-सुधा देवांगन “शुचि”

**नववर्ष उत्सव* ———————— **कविता** —————- झूमी है धरती झूमा गगन, नववर्ष पर देश देखो मगन। धरती है सरसाई मन हुआ चमन, धुंँध के चादर में मिले धरती गगन। नये साल पर देखा अद्भुत नजारा , बादलों को फिर से धरा ने पुकारा । नव संदेशा लेकर सूरज है आया , जोश औ उमंग भरी रश्मियां … Read more