गजल मेरी पढ़ करके बेवफाई करने वाले भी रोएंगे

गजल दिल से निकलती है
“गजल मेरी पढ़ करके बेवफाई करने वाले भी रोएंगे”
*
यह मेरी गजल के चुनिंदा शेर हैं जो तेरे काम आएंगे

समय मिला तो इन्हें पढ़ना ये तेरे ही नाम आएंगे।

इन्हें पढ़कर अगर टूटे दिल को भी सुकून मिलता है

तो ये शेर शायर की मायूस कलम का भाग्य जगायेंगे

जब भी मैं इन्हें लिखता हूं दिल गमों से चूर होता है

यह तेरे घर आकर तेरे सामने मेरा मजाक उड़ाएंगे।

इन्हें पढ़कर इश्क वालो के चेहरे पर भी मुस्कान आती है

अगर टूटा हुआ दिल है तो ये मायूस लौट जाएंगे।

शायरी वही पड़ता है जिन्हें इस दर्द का एहसास होता है

दिल में डूब कर ये भी शायर का साथ निभाएंगे।

टूटे हुए दिलों के लिए गजल एक उम्मीद होती है

गजल दिल से निकलती है तो ये बेवफा दिल हिल जायेंगे।

गजलों की इस दुनिया में तो गमों की भी रात होती है

गजल मेरी पढ़ करके बेवफाई करने वाले भी रोएंगे

सीताराम पवार
उ मा वि धवली
जिला बड़वानी
9630603339

Share

Leave a Comment