घर ही स्वर्ग है अपना

“अपना घर”
*********
अपना घर ही स्वर्ग है अपना ।
स्वर्ग का देखें न दूजा सपना ।।
*****
स्वर्ग आवास है धर्म धारी का ।
धर्म कर देखें स्वर्ग का सपना ।।
*****
स्वर्ग अपना ही घर बना लीजे ।
बदल परिवेश घरों का अपना ।।
*****
बैर नफरत से परे घर में कभी ।
नर्क का आता ही नहीं सपना ।।
*****
घर को ‘स्नेही’ बनाओ पावन ।
घर में रह कर,हरि को जपना ।।

*******इति*******
रचनाकार –लखन कछवाहा’स्नेही’
20112021

Share

Leave a Comment