ज्ञानोत्कर्ष अकादमी में मनाया गया जन्माष्टमी पर्व

ज्ञानोत्कर्ष अकादमी भारत के अनुसार भारत ही एकमात्र ऐसा देश है जहां घाट-घाट पानी बदले स्वाद । ऐसे देश में विभिन्न धर्म है फिर भी एकता को संजोए हुए यह देश जब भी सलमा के घर ईद होती है तो राघव शीर खूरमा खाने जाता है और सीता के घर सलीम मिया दीवाली पर पटाखे फोड़े बिना कही मानते हैं ऐसे देश की जितनी तारीफ की जाए कम है यहां हर त्योहारों पर उत्साह मनाना जरूरी सा हो जाता है ऐसे में कृष्ण जन्माष्टमी का उत्सव और बच्चे बड़ो में उत्साह ना हों ये कैसे संभव है यहां हर तीसरे घर में कृष्ण राधा स्वरुप बनाए जाते हैं ऐसे में अकादमी ने छायाचित्र की मांग रख उनका उत्साह और बढ़ाया ! कार्यक्रम के निर्देश अकादमी संस्थापक रूपेश कुमार जी के द्वारा दिए गए ! रूपरेखा अकादमी की राष्ट्रीय महासचिव गरिमा विनित भाटिया जी के द्वारा तैयार की गई जो एक युवा कवयित्री भी है अकादमी के लिए पूर्ण समर्पित है साथ ही वीना आडवाणी जी ने जो अकादमी की राष्ट्रीय सचिव है उनका पूरा सहयोग किया वीना आडवाणी जी पत्रकारिता के क्षेत्र में अपनी विशेष पहचान बना चुकी हैं साथ ही ये एक लेखिका व वरिष्ठ कवयित्री भी है एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष ऐडवोकेट अनुजा मनु जी जो राष्ट्रपति अवार्ड से सम्मानित युवा कवयित्री का विशेष योगदान रहा ! कार्यकर्म में विभिन्न प्रदेशों से बच्चे सांस्कृतिक विरासत संजोए हुए राधा कृष्ण स्वरूप में दिखे जिनका विवरण इस प्रकार है दर्श देव 2 वर्ष आगरा उत्तर प्रदेश, नव्या गोला 5 वर्ष आगरा उत्तर प्रदेश , आख्या चौहान 9 बर्ष आगरा उत्तर प्रदेश , जियान विनित भाटिया 1 वर्ष 7 माह अमरावती महाराष्ट्र , तानुष 10 माह भोपाल मध्य प्रदेश , बानाई मोह्ते 8 माह नागपुर महाराष्ट्र , प्रथम अग्रवाल 6 वर्ष कोलकाता , वंश जिंदल 8 वर्ष बंगलोर कर्नाटक , कियांश महंनसरिया 1 वर्ष बंगलोर कर्नाटक , वियान महंनसरिया 7 वर्ष बंगलोर कर्नाटक , लवित महंनसरिया 3 वर्ष बंगलोर कर्नाटक ,भाभू जोशी 9 वर्ष सिलीगुड़ी पश्चिम बंगाल , आरोही जोशी 1 वर्ष , आदित शास्त्री 3 वर्ष सिलीगुड़ी पश्चिम बंगाल , खुशी उम्र 3 साल राजस्थान , आरव भारद्वाज 5 वर्ष राजस्थान उत्कर्ष सिंघल , देवांश 6 साल राजस्थान,भूमि 2 साल राजस्थान, परम 4 साल राजस्थान, आख्या चौहान 9 वर्ष आगरा , कुमार आरव 8 साल , अर्णव कुमार 4 साल चैनपुर , सीवान , बिहार अकादमी ने छायाचित्र को देख सभी बच्चों व उनके माता पिता का भी धन्यवाद ज्ञापन किया कि अकादमी के महोत्सव आयोजन में उन्होंने अपने तन मन से अकादमी का साथ दिया ! अकादमी ने कार्यक्रम के समापन में अकादमी सदस्य आशा बंसल जी और निशा गुप्ता , कल्पना चौधरी , डॉक्टर विजय लक्ष्मी जी , अस्मिता प्रखर जी का भी धन्यवाद ज्ञापन किया इन्होंने अकादमी को पश्चिम बंगाल व कर्नाटक से जोड़ कार्यक्रम को और भी भव्य बनाया !

Share

1 thought on “ज्ञानोत्कर्ष अकादमी में मनाया गया जन्माष्टमी पर्व”

Leave a Comment