गजल -बदनाम होंगे-सुषमा सिंह

गजल
—————
किस्से अब सरेआम होगें।
हम -दोनों बदनाम होगें।।

गली मुहल्ले में होंगे चर्चे।
सैकड़ों ताने इल्जाम होगें।।

एक – दूसरे में खोये हम।
जिन्दा अपने दम होंगे।।

आती जाती इन ऋतुओं में।
हम बहार- ए मौसम होंगे।।

हम इश्क के गुनहगार।
दर्दे – दिल के मरहम होंगे।।
सुषमा सिंह
औरंगाबाद
—————
World of writers

Share