होली मिलन समरोह

होली मिलन समारोह


साहित्य को समर्पित श्री साहित्य के पटल पर १२ मार्च २०२२ को होली मिलन कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया ।

संयोजक सह संचालक श्रीराम राय के अनुसार कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए पटना से दैनिक दस्तक प्रभात के प्रधान संपादक प्रभात वर्मा ने मगहिया अंदाज में
फागुन में होलिया के बरसे रंग फुहार हो ” गाकर सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। मंच पर उपस्थित मुख्य अतिथि के रूप में रायबरेली से गीता पांडे अपराजिता ने “जोगीरा सा रा रा रा” गाकर पूरे माहौल को होली के रंगों से भर दिया । वहीं पटना के वरीय कवि, साहित्य कुंज के महासचिव अरविंद अकेला ने “तेरे रंग में डूब गए हैं” सुनाकर सबको ताली बजाने पर मजबूर कर दिया ।

कवियों के अगले क्रम पर पटियाला से कवित्री साहाना परवीन ने “अंधेरे में चिराग जला कर देखो ,सबको रंग लगा कर देखो”, झाबुआ से भैरो सिंह चौहान “तरंग ” “होली एक रंग अनेक” , अलीगढ़ की कवित्री ललिता वर्मा ने “चलो रे गोरी मस्त फागुन आयो“, विद्या शंकर अवस्थी पथिक ने “प्रेम और सद्भाव को लेकर होली आई रे, देवर भाभी के प्यार को लेकर होली आई रे”, बालेश्वर चंद्रवंशी ने “अब होली दिन दोपहर रात आती है, हो रहा है प्रहलाद दहन नित” कविता का पाठ किया । वहीं रामकुमार प्रजापति , राजस्थान से “सब मिलकर गा रहे सुंदर होली गीत”, गाजियाबाद से सोनिया जी ने “भुला दो गिले-शिकवे देखो होली आई है”, सुधीर श्रीवास्तव गोंडा से “रंग बिरंगी अपनेपन की होली है, बुरा न मानो यार होली है “, डॉक्टर वत्सला ने वाराणसी से अपने दोहे प्रस्तुत किए- “होली खेलो सजना लगा लगा के रंग, पिचकारी से भीगेगा सभी के अंग”। रमेश तिवारी मक्खन ने झांसी से “मधुर बोली होली जो कानों में आई ,तन मन में मेरे मस्ती थी छाई “, वाराणसी से डॉ बृजेंद्र नारायण शैलेश ने “ है सुमन भी हंसते उपवन में बसंती मौसम आया”, निशा अतुल्य देहरादून ने “पीकर भांग जोगी जी वाह जोगी जी वाह” गा कर पटल को झूमने पर मजबूर कर दिया। वरुणा जी ने कोलकाता से “आया होली का त्योहार, है रंगों की भरमार “, अर्चना अनुप्रिया दिल्ली से “औरतें हर दिन बनाती हैं रंगों के त्यौहार” और प्रवीणा श्रीनिधि लखनऊ से “स्नेह भरा मन करता है होली पर्व का बंधन” प्रस्तुत कर सबको रंग लगाया। इस होली मिलन समारोह का समापन करते हुए संचालक श्री राम राय ने “कोई पिया परदेश से आए ,कोई लगावे बोली रे, कहीं से कोई खत भी ना आए ,फिर भी आई होली रे” सुनाया। सद्भाव और भाईचारे को समर्पित होली मिलन आयोजन के अंत में संयोजक वरीय कवि सह शिक्षक श्री राम राय के द्वारा सभी को सम्मान पत्र से सम्मानित किया गया।

Share