रहता है जिसमें हौसला अरविंद अकेला

कविता

रहता है जिसमें हौसला,
आसमाँ में ऊँची उड़ान की,
वे कभी परवाह नहीं करते,
अपने जिस्म व जान की।

होते हैं जो औलाद फ़ौलादी,
चट्टानों से टकराते हैं ,
वे कभी उफ-आह नहीं करते,
नहीं करते फिक्र दुनियाँ जहान की।

कोई हमें कमजोर नहीं समझे,
नहीं “अकेला” समझ हमें डराये,
गर आ गये औकात पर अपनी,
जायेगी जान उस शैतान की।

हम हैं लाल इस धरती के,
देश के लिए मर मिटते हैं ,
करते हैं अपने देश की रक्षा,
खाकर कसम हिन्दुस्तान की।
——-0——-
अरविन्द अकेला,पटना।

Share