शिक्षक दिवस के पावन अवसर पर महात्मा गांधी साहित्य सेवा मंच गांधीनगर गुजरात



शिक्षक दिवस के पावन अवसर पर महात्मा गांधी साहित्य सेवा मंच : गांधीनगर गुजरात के द्वारा प्रातः ११:५५ बजे से एक सेमिनार का आयोजन हुआ जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में ज्योतिषी एवं वास्तुशास्त्री डॉ जय भारती विशिष्ठ अतिथि के रूप में दिल्ली विश्वविद्यालय में कार्यरत डॉ अनिल कुमार एवं अध्यक्षता के रूप में समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ गुलाबचंद पटेल जी एवं दिल्ली विश्वविद्यालय में पिछले 10 सालों से असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर कार्यरत समिति के दिल्ली इकाई की अध्यक्ष डॉ मंजू रानी उपस्थित रहीं।

कार्यक्रम की शुरुआत शिक्षा एवं शिक्षक के महत्व पर डॉ गुलाबचंद पटेल जी के अनुकरणीय वक्तव्य के साथ हुआ।

कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष आदरणीय श्रीमन गुलाबचंद पटेल जी ने कहा कि शिक्षा में समाज को सही दिशा दिखाने की उसे बनाने की क्षमता होती है ।शिक्षक समाज के देश के निर्माता होते हैं।उन्होंने शिक्षक एवं शिष्य के वर्तमान संबंधों एवं शिक्षा के व्यापारिकरण पर चिंता जताते हुए इसमें सुधार लाने की बात की। इसके पश्चात मुख्य अतिथि डॉ जय भारती जी ने कहा कि सही शिक्षा ग्रहण करने के लिए शिक्षार्थियों का वातावरण भी सही होना चाहिए।उन्होंने एकाग्रता बढ़ाने एवं सफलता पाने हेतु वास्तु टिप्स दिए। उन्होंने बताया कि शिक्षक केवल वो नहीं होते जो हमे विद्यालय में पढ़ाते हैं बल्कि जिंदगी में जिनसे भी हम कुछ सीखते हैं वो हमारे शिक्षक होते हैं। इसके पश्चात कार्यक्रम के विशिष्ठ अतिथि डॉ अनिल कुमार ने शिक्षा एवं शिक्षकों के महत्व पर बात करते हुए अपने दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षण अनुभवों को साझा किया।

इसके पश्चात धन्यवाद ज्ञापित करते हुए, समिति की दिल्ली इकाई की अध्यक्ष डॉ मंजू रानी ने कहा कि समिति द्वारा शिक्षक दिवस के इस पावन अवसर पर इस सेमिनार को आयोजित करना गर्व की बात है। सेमिनार के लिए अपने व्यस्त समय में से समय निकालकर अपनी उपिस्थि देने के उन्होंने अथितियों का विशेष आभार व्यक्त करते हुए सभी का धन्यवाद किया। धन्यवाद ज्ञापन के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ ।कार्यक्रम का संचालन किरोड़ीमल महाविद्यालय के इतिहास विभाग के स्नातक छात्र शिव कुमार ने बहुत ही सफल सुंदर एवं सराहनीय रूप से की।
धन्यवाद।।

Share

Leave a Comment