मेरी आशाएं-मीना कुमारी परिहार

मेरी आशाएं2022में हो ऐसी

World of writers

मेरी आशाएं 2022में हो ऐसी
सिंदूरी भोर लिए आये नववर्ष
सुखद रात सुप्रभात लाये नववर्ष
पेड़ -पौधों पर नित नये फूल खिले
बांट रहा हो स्नेहिल सूरज सौगातें
नये-नये संकल्प करें हम
अब है आगे हमको बढ़ना
भूखे-प्यासे, दीन-दुखियों की
मनोभाव से है सेवा करना
नहीं किसी का बुरा करें हम
सीखें मानवता से रहना
कठिन जिन्दगी और सरल सुगम हो
अनसुलझी जिन्दगी की जो रही पहेली
अब उसका भी हल हो जाये
सबके लिए सुनहरा पर हो
समय हम सभी का साथ सदा दे
सुखमय हो आंगन ऐसा हर पल हो खास
न‌ये वर्ष का इक-इक पल
भविष्य स्वर्णिम और सुखद हो
सबके लिए हो उज्जवल कल
ऐसा हो मेरा नववर्ष 2022
स्वागत है 🙏🙏

डॉ मीना कुमारी परिहार
पटना, बिहार

Share

1 thought on “मेरी आशाएं-मीना कुमारी परिहार”

Leave a Comment