नव वर्ष-मीता लुनिवाल

नव वर्ष काव्य प्रतियोगिता

नव वर्ष

नव वर्ष है आया
मिलकर प्रेम गीत गाए

सहज सरल मन से
सबको गले लगाए

ईमानदारी का पालन करें
भष्टाचार को दूर हटाए

ऊँच नीच के भेद
को मिलकर मिटाए

शिक्षा का उजियारा
घर घर मे पहुचाए

पयार्वरण की रक्षा करें
चारों ओर पेड़ लगाएं

स्वच्छता अभियान का पालन
करें और सभी को समझाए

योग प्राणायाम करें
सभी को महत्व बताए
खुद को प्यार कर ले-भारती सुजीत

कोरोना से सावधान रहें
सभी को नियम बताए

देश प्रेम का जज्बा रखे
देश भक्ति लोगों में जगाए

भारत माँ के चरणों मे
अपना शीश झुकाए

मीता लुनिवाल
जयपुर, राजस्थान

Share

1 thought on “नव वर्ष-मीता लुनिवाल”

Leave a Comment