नव वर्ष-प्रदीप शर्मा

नववर्ष की अंतस्तल से, बारम्बार बधाई बारम्बार बधाई
सुख समृद्धि पास रहे,रहे तुमसे दूर बुराई।
रोगमुक्त तन सदा रहे,महके मन का कोना कोना
हे! ईश्वर यही प्रार्थना है,वापस ना आए कोरोना।
आमदनी बढ़‌ जाए, बढ़े ना जोरों से मंहगाई
नववर्ष की अंतस्तल से, बारम्बार बधाई बारम्बार बधाई।

लॉकडाउन के कारण, सबका धंधा पड़ गया मंदा
कोरोना जी नहीं भेजना, तीसरी लहर का फंदा।
ओमीक्रोन भैया को, बाबा ढंग से तुम समझाना
नयी साल पर उनको,ना भारत भ्रमण करवाना।
जनजीवन खुशहाल रहे,ना वायरस की हो परछाई
नववर्ष की अंतस्तल से, बारम्बार बधाई बारम्बार बधाई।

आओ मिलकर नये वर्ष पर,एक नया इतिहास रचाएं
जो गरीब फुटपाथ पे सोते, कपड़े देकर जश्न मनायें।
बालश्रम करते भविष्य को, विद्यालय की राह दिखाएं
नया वर्ष होगा मंगलमय, यदि मानष का फर्ज निभाएं।
नये वर्ष का स्वागत करके, बीते वर्ष की करें विदाई
नववर्ष की अंतस्तल से, बारम्बार बधाई बारम्बार बधाई।

प्रदीप शर्मा।
फाउंड्री नगर, आगरा।

Share

Leave a Comment