नया साल ये आया है-भेरूसिंह चौहान “तरंग”

*नया साल ये आया है*
*______________________*

दीप जले हैं घर – आँगन में
परचम भी लहराया है ।
खुशियों की सौगात मिली है
नया साल ये आया है ।।

नए वर्ष में वृक्ष लगाएं
धरती का श्रंगार करें ,
रंग – बिरंगे इंद्रधनुषी
सपनों को साकार करें ।
चहुंओर है लहर हर्ष की
सबके दिलों पर छाया है ।
खुशियों की सौगात……।।

नाच रहे हैं मोर – पपीहा
जब कोयल गीत सुनाती है ,
चमक रहे हैं भाल कृषक के
फसलें खेतों में लहराती है ।
मस्त पवन में झूमें फसलें
मानो यौवन भी इठलाया है ।
खुशियों की सौगात…..।।

गत वर्ष में हुई गलतियां
नहीं हमें दोहराना है ,
नई उमंग हो , नई तरंग हो
नया जोश भी लाना है ।
मंथन – चिंतन करना सबको
क्या खोया – क्या पाया है ।
खुशियों की सौगात…..।।

पथ में कांटे लाख अगर हो
नहीं जीवन में घबराना हैं ,
हार मिले या जीत मिले
हमें फिर भी गले लगाना है ।
नहीं रूकेगा आज क़दम ये
जो आगे क़दम बढ़ाया है ।
खुशियों की सौगात …..।।

नफ़रत की जो आग लगी है
उसको आज बुझाना है ,
मानवता का दीप – दिलों में
मिलकर आज जलाना है ।
नहीं बुझेगा दीप – दिलों का
जो तुमने आज जलाया हैं ।
खुशियों की सौगात …. ।।

*_____________________________*

भेरूसिंह चौहान “तरंग”
४,रोहिदास मार्ग, झाबुआ
ज़िला – झाबुआ (मध्य प्रदेश)
पिन : ४५७६६१
मो. नंबर : ७७७३८६९८५८
*______________________________*

Share