नया साल आया-अन्नपूर्णा तिवारी अनु

नया साल आया,
नया साल आया ,खुशियां हजार लाया,
कुछ बुझे हुए चहरो में खुशी की बहार लाया।
बीत गया जो पल ,दर्द देकर हजार,
उन जख्मो को भरने ,मरहम तमाम् लाया।
जीवन तो कटना ही है, खुशी हो या गम,
क्यों न हँसते गाते बीते खुशियों के पल।
यही पैगाम लाया ,देखो नया साल आया।।
रहो सभी प्यार से ,मिटा मन का द्वेष ,
चंद लफ्जो में ही ,बाते हजार लाया ।
नया साल आया ,नया साल आया ,
नव प्रकाश हो सबके जीवन मे,
कुछ ऐसा दीपक जलाकर लाया।
विश्वास भरा हो जीवन सबका,
कुछ ऐसे ही अरमान ले आया ।।
नया साल आया नया साल आया।।
साँसों की रफ्तार अब,न थमे,
ना कोई अब महामारी आये ,
सुकून से बीते जीवन सबका,
बस यही नई उम्मीद लाया ।
नया साल आया ,नया साल आया।।
अन्नपूर्णा तिवारी अनु मण्डला मध्यप्रदेश।

Share