डॉक्टर अंजुल कंसल “कनुप्रिया नव वर्ष

नव वर्ष उत्सव

विषय- नव वर्ष

शीर्षक- नव वर्ष अभिनंदन

नव वर्ष का करें,अभिनंदन
खुशहाली बसे जन-जन।

नव-उमंग,नव-उल्लास,नवल-प्रेम
नव-स्वप्न,नव- आशा, नव-भावना
नव- सृजन का,बुन लें ताना-बाना
नव- मंजिल छूने,की हो अभिलाषा
नव वर्ष का करें, अभिनंदन- वंदन।

हौसले- हिम्मत के पंख लग जाएं
अंबर को छूने की बनी रहे आकांक्षा
कोरोना की त्रासदी को भूलते जाएं
अपनों से बिछुड़ने का दर्द बिसराएं
नव वर्ष का करें, अभिनंदन- वंदन।

नव वर्ष आ रहा है, मुस्कुराते हुए
नव-स्वर साधना से,गीत गुनगुनाएं
प्रकृति कर रही,अनगिनत उपकार
देहरी पर नवप्रेरणा दीप जगमगाएं
नव वर्ष का करें, अभिनंदन- वंदन।

तीसरी लहर ओमीक्रोन द्वार खड़ी है
वैक्सीन को अवश्य लगवाएं,स्वस्थ रहें
क्षणभंगुर जीवन को,महामारी से बचाएं
कोरोना नियमों का, सदैव करें पालन
नव वर्ष का करें अभिनंदन- वंदन।

डॉक्टर अंजुल कंसल “कनुप्रिया

Share