साल ये कैसा आयेगा-कुमार निर्दोष

साल ये कैसा आयेगा-गीत

जाने किसे हँसायेगा येे , ना जाने किसे रुलायेगा
कोई ना जाने किसके लिए नया साल ये कैसा आयेगा

किस दीये का तेल खत्म हो जाने किस की बुझेगी बाती
जाने किसका प्रेम मिलन हो,जाने किसका बिछुड़े साथी
किसी के जीवन की नैया का , मांझी रूठ जायेगा
कोई ना जाने किसके लिए नया साल ये कैसा आयेगा

जाने कौन बिदा हो डोली में , बाबुल के आँगन से
और कोई सपनों में बात करेगी अपने साजन से
किसी के दिल में यादों का , फूल मुस्कुरायेगा
कोई ना जाने किसके लिए नया साल ये कैसा आयेगा

किसी को खुशियों की माया , बन आयेगा नया साल
और किसी को कर जायेगा , एक दम से कंगाल
खुदा तेरी खुदाई को , ना कोई समझ पायेगा
कोई ना जाने किसके लिए नया साल ये कैसा आयेगा

साल पुराना छोड़ जायेगा खट्टी मीठी यादें
मेरी तरफ से आप सभी को लाखों मुबारकबादे
नये साल में ये “निर्दोष” फिर से नया गीत बनायेगा
कोई ना जाने किसके लिए नया साल ये कैसा आयेगा

रहे देश में प्रेम एकता , और हो आपस में भाईचारा
सभी को मुबारक मेरी तरफ से नया साल ये प्यारा
नये साल का नया सूरज एक नई रोशनी लायेगा
कोई ना जाने किसके लिए नया साल ये कैसा आयेगा
World of writers
कुमार निर्दोष दिल्ली

Share

2 thoughts on “साल ये कैसा आयेगा-कुमार निर्दोष”

  1. 💐💐 अतिप्रशंसनीय सृजन 👌👌
    –राजकुमार छापड़िया, मुंबई

Leave a Comment