पन्द्रह दिन दीवाली लखन कछवाहा

ताजी रचना

पन्द्रह दिन दीवाली

दीवाली के पर्व की,कहां तक करूं तारीफ ।
एक खुशी दीपोत्सव, दूजी फसल खरीफ ।।
दूजी फसल खरीफ,कृषक में खुशी भारी ।
हंस-हंस काटें धान, रबी की करते तैयारी ।।
रबी फसल फाल्गुन पके, पर्व होला होली ।
मेला-मढ़ई अहीर नृत्य,पन्द्रह दिन दीवाली ।।
****०****
कवि–लखन कछवाहा ‘स्नेही’
25-10-2022

Leave a Comment