प्रेम प्रवाह
प्रेम तो बस प्रवाह है,
प्रेम मिलन की चाह है।

प्रेम में उतरकर देख,
बंकिम प्रेमिल राह है।

प्रेम सदा नि: स्वार्थ हो,
मीरा बनी गवाह है।

नद से गहरा प्रेम,
प्रेम सागर अथाह है।

प्यार करके लोग

राधा कृष्ण अमर प्रेम,
ना जग की परवाह है।
सुषमा सिंह
औरंगाबाद
—————–
(सर्वाधिकार सुरक्षित एवं मौलिक)

Share

Leave a Comment