श्री राम ने किया रामनवमी कवि सम्मेलन का संचालन

लगा राजा राम का दरबार है-:अकेला

श्रीराम राय के संचालन में

राम नवमी अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का संचालन

चैत्र शुक्ल पक्ष दशमी के शुभ अवसर पर औरंगाबाद की लोकप्रिय साहित्य,कला व संस्कृति की संवाहक संस्था “साहित्यकुंज ” द्वारा अखिल भारतीय रामनवमी कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। साहित्यकुंज के महासचिव अरविंद अकेला के संयोजन में आयोजित इस राम नवमी कवि सम्मेलन का संचालन मधुर स्वर से भक्ति गीतों के साथ वरीय शिक्षक सह रचनाकार श्री राम राय ने किया। कार्यक्रम का उद्घाटन आदरणीय लब्धप्रतिष्ठ हिन्दी दैनिक “नव बिहार टाईम्स” के प्रधान संपादक कमल किशोर श्रीवास्तव द्वारा किया गया ।सम्मेलन के अध्यक्ष के रूप में पटना से प्रकाशित हिन्दी दैनिक “दस्तक प्रभात” के प्रधान संपादक श्री प्रभात वर्मा उपस्थित रहे जबकि कवि सम्मेलन के मुख्य अतिथि के रूप में
श्री अरविंदो सोसाइटी के बिहार प्रदेश के सचिव विनय कुमार सिन्हा मौजूद रहे।सर्वप्रथम वरीय कवयित्री सुषमा सिंह के मधुर कंठ से सरस्वती वंदना प्रस्तुत की गई । इसके बाद रायबरेली से पधारी कवयित्री गीता पांडे अपराजिता ने ” बिना भक्ति भाव के सुखधाम कब हुआ, भगवान राम के बिना काम कब हुआ” का गायन किया। अलीगढ़ (उत्तर प्रदेश) से ललिता कुमारी वर्मा ने ” मेरे घर आज जन्मे है राम ,मुझे खुलकर नाचन दो”, छत्तीसगढ़ से ही पधारे रामसाय श्रीवास राम ने “नवमी तिथि है परम पुनीता, महिमा शक्ल कहे श्रुति गीता”, आगर (मध्य प्रदेश) से पधारे वृंदावन राय सरल ने “जब जब राम जन्मदिन आए ,तब तब खुशियां पर फैलाए “, मगध विश्वविद्यालय,बोधगया से डॉक्टर अंबे कुमारी ने ” केवट से निहोरा करे रामजी”, पदमा तिवारी दमोह ने “चाहे राम हो या श्याम दोनों ही हमें प्यारे हैं”, रामकुमार प्रजापति ने “आया आया आया दिन रामनवमी का आया ,पुनर्वसु नक्षत्र कर्क लग्न में जन्म राम ने पाया”, रेनूअब्बी (चंडीगढ़ )ने “जन जन के रक्षक हैं राम”, लखन लाल सोनी लखन ने “भगवान राम के चरणों में हम अपना शीश झुकाते हैं”, औरंगाबाद की कवयित्री सुषमा सिंह ने “रघुकुल जन्म में बन बन भटके तारण तार जग के हैं राम सबके”, छत्तीसगढ़ से खेमराज साहू राजन ने “तुलसी मानस में कह गए कलयुग केवल नाम अधारा”, इंदौर से शोभा रानी तिवारी ने “राम जी हम तुम्हारे गुण गाते हैं, हम जयकारे लगाते हैं”,पटना से डॉ मीना कुमारी परिहार ने “चलो सखी घर मंदिर को सजाएं ,आज मेरे राम लीला आ रहे हैं”, मध्य प्रदेश से भैरो सिंह चौहान तरंग ने “मंदिर वहीं बनेगा” पटना से पधारे वरीय कवि अरविंद अकेला ने “आज रामनवमी का त्यौहार है,लगा राजाराम का दरबार है” का सस्वर पाठ किया । उपस्थित कवियों में अमिता मराठी , डॉक्टर बीना सिंह रागी इत्यादि की प्रस्तुति भी अत्यंत ही भावपूर्ण रही। कवि सम्मेलन के अंत में सभी कवियों को साहित्य कुंज के अध्यक्ष श्री राम राय द्वारा सम्मान पत्र से सम्मानित किया गया।

Share