मातृका विवेक साहित्यिक मंच दिल्ली रजि० द्वारा शिक्षक दिवस पर भव्य काव्य गोष्ठी

नई दिल्ली-मातृका विवेक साहित्यिक मंच दिल्ली रजि० द्वारा शिक्षक दिवस पर भव्य काव्य गोष्ठी का आयोजन

डॉ. राधाकृष्णन सर्वपल्ली के जन्मदिवस को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया गया

गुरु ब्रह्मा गुरु विष्णु ,गुरु देवो महेश्वर गुरु साक्षात परब्रह्मा तस्मै ७श्री गुरुवे नमः
सभी सम्मानित जनों के द्वारा मंत्रोच्चारण किया गया, सभी ने अपने अपने गुरुओं को याद कर नमन किया।

नई दिल्ली-मातृका विवेक साहित्यिक मंच की अध्यक्ष प्रीति हर्ष जी ने राष्ट्र के सभी गुरुओं को इस अवसर पर हार्दिक नमन किया। गुरु परंपरा हमारी सनातनी प्राचीन सभ्यता से ही चली आई है गुरु देवताओं के भी होते हैं गुरु के बिना ज्ञान की ज्योति असंभव है।
निदेशक आरती तिवारी सनत जी ने भी देश के सभी गुरुओं को नमन किया सभी को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दीं। अध्यक्ष प्रीति हर्ष जी की अध्यक्षता में आज शिक्षक दिवस पर काव्य गोष्ठी आयोजित की गई। भारत के विभिन्न राज्यों से लगभग 200 प्रतिभागियों ने अपनी सहभागिता दी।
सभी ने अपने गुरुओं के प्रति माता पिता के प्रति सम्मानित जनों के प्रति अपने मन के उच्च विचार भाव से‌ आपनी अभिव्यक्ति की सभी गुरुओं को हार्दिक नमन किया। अपना स्नेह वंदन उनके श्री चरणों में समर्पित किया। सभी प्रतिभागियों को शिक्षक दिवस के इस पावन अवसर पर ‌गुरु द्रोणाचार्य सेवा सम्मान से सम्मानित किया गया
सभी के उज्जवल भविष्य की मंगल कामनाएं के साथ आपकी लेखनी को भी साधुवाद किया गया निरंतर यूं ही गतिमान बनी रहे। निदेशक आरती तिवारी सनत जी ने अंत में सभी का आभार ज्ञापित किया। सभी ने अपने अपने गुरुओं को पुनः नमन किया आयोजन को समापन किया गया।
गुरु और शिष्य परंपरा अनवरत चलती रहेगी जब तक सृष्टि पर मानव का अस्तित्व है।

Share

Leave a Comment