नव वर्ष उत्सव-सुधा देवांगन “शुचि”

**नववर्ष उत्सव*
————————
**कविता**
—————-
झूमी है धरती झूमा गगन,
नववर्ष पर देश देखो मगन।

धरती है सरसाई मन हुआ चमन,
धुंँध के चादर में मिले धरती गगन।

नये साल पर देखा अद्भुत नजारा ,
बादलों को फिर से धरा ने पुकारा ।

नव संदेशा लेकर सूरज है आया ,
जोश औ उमंग भरी
रश्मियां है लाया ।

छोड़ों अलस को भर लो सब उमंगे ,
जागो जागो आशा की लाया तरंगें ।

झोंको ने रवि किरणों को दुलराया ,
वक्त कह रहा सबसे शुभ दिन है भाया ।

आलोकित कर मन को सबको जगायेंगें ,
तन मन झंकृत हो वो गीत सभी गायेंगे ।

अविचल अविरल नभ में भाव झिलमिलायेंगे,
सत्य शांति अहिंसा का पाठ हम पढ़ायेंगे ।

आतप विद्रोह जिद को
प्यार से मनायेंगे,
ज्ञान के अलख से नवचेतना लायेंगे ।

बुझे व उदास चेहरों में खुशियांँ लानी है,
बढ़़ते हुए दिलों की फासलें मिटानी हैं ।

खुशी के बाद फिर विपदा आन पड़ी है ,
द्वार पर ओमेक्रान राह रोके खड़ी है ।

पर हारेंगे ना हम उम्मीद का दीप जलाना है ,
फूट रही नव किरणों से
उत्साह दीप सजाना है।

नववर्ष लाया है नव प्रेरणा ,
आल्हादित मन से नवगीत सभी छेड़ना।
**सुधा देवांगन “शुचि”*
जिला–रायगढ़
**छत्तीसगढ़**
मोबाइल नंबर
9981442884
**जय हिन्द जय भारत*
**************-**

Share

Leave a Comment