नव वर्ष-सुशीला साहू

नववर्ष
World of writers
~~~~~~~~~~~~
*नये वर्ष की नई चेतना*,
*मिल कर साथ मनाये*।
*नव जीवन का ये रंग मंच*,
*आओ आज सजाये*।
~~~~~~~~~~~~
आशाओं की नित किरण हो,
हम ये आस जगायें।
सुखद अनुभूति सदा अब हो,
ज्ञान उपज फैलायें।
भाव जगाएं अरमानों की,
मन में दीप जलायें।
*नये वर्ष की नई चेतना*,
*मिल कर साथ मनायें*।
~~~~~~~~~~~
आने वाली भावी पीढ़ी,
उनके लिए कुछ कर पायें।
आओ संकल्प ले साथ-साथ,
अहंकार को मिटायें।
पंख लगते कल्पनाओं की,
परिदों सा उड़ जायें।
*नये वर्ष की नई चेतना*,
*मिल कर साथ मनायें*।
~~~~~~~~~~~
रिश्ते होते अनमोल मोती,
उनके मोल समझ जायें।
गम को खुशीयों में बाँट लो,
जिन्दगी में हर्ष छायें।
जहाँ बसता अपनों का प्यार,
सुखी संसार पायें।
*नये वर्ष की नई चेतना*,
*मिलकर साथ मनायें* ।

पढ़ें एक से एक रचनाये
~~~~~~~~~~~
*सुशीला साहू “विद्या”*
*रायगढ़ – छत्तीसगढ़*
*मो.–9827466891*

Share

22 thoughts on “नव वर्ष-सुशीला साहू”

  1. बहुत सुन्दर कविता सुशीला दीदी बधाई हो 💐💐🙏

  2. आदरनीया जी शानदार सृजन
    बहुत बहुत बधाई
    अनंत शुभकामनाएं

  3. बहुत अच्छी रचनाएँ हैं, बधाई हो

Leave a Comment