प्रभात राजपूत की रचना मेरा मन

मेरा मन कविता तू ही मेरी जिंदगी का अभिलाष हो, तू ही मेरे जीवन की हर सांस हो।। तेरे चेहरे को जब मायूस देखता हूं, जब भी तुझे परेशान देखता हूं।। मन मेरा परेशान हो जाता है, मेरा हर ख्वाब छिन जाता है।। तू कभी मेरा साथ मत छोड़ना, मुझसे कभी अपना मुंह मत मोड़ना।। … Read more