नव वर्ष-उमेश श्रीवास

नव वर्ष

बीत गया जो वर्ष पुराना ,बीती बातें भुला दे हम ।
नया वर्ष आ गया है मित्रों ,उसको मधुर बना लें हम ।
नए वर्ष में ढेरों खुशियाँ ,नित नित प्रतिदिन आएँगी।
मिलन ,हर्ष , सद्भाव, प्रेम का, नित संदेशा लायेंगी ।
मेरा तो सन्देश सभी को, जीवन सबका सुखमय हो ।
जो हो सब शुभ शुभ हो ,अरे अशुभ नहीं
कुछ भी हो ।
स्वस्थ मस्त सानन्द रहे सब, यही ,कामना मेरी है ।
मंगलमय हो सबका जीवन यही, भावना मेरी है ।
नयी सदी पर पर चढ़ी जवानी, वर्ष इक्कीसवां बीत गया ।
ढेरो खुशियो लिए जगत हित, वर्ष बाईसवां आ ही गया ।

– उमेश श्रीवास
जयरामनगर, बिलासपुर छ. ग.

Share