घटती हरियाली बढ़ती समस्याएं का विमोचन

“घटती हरियाली बढ़ती समस्याएं” साझा काव्य संकलन
*वैदिक मंत्रोच्चार के साथ आ. हंसराज सिंह ने किया विमोचन*

World of writers

साहित्य एक नज़र , कोलकाता से प्रकाशित होने वाली दैनिक पत्रिका की प्रस्तुति – “घटती हरियाली बढ़ती समस्याएं” साझा काव्य संकलन का विमोचन 28 नवंबर 2021 , रविवार को प्रातःकाल 9.00 सुप्रसिद्ध साहित्यकार/वरि.कवि आ. हंसराज सिंह हंस जी के करकमलों से साहित्य एक नज़र के फेसबुक पटल पर किया गया । आ. कवि हंसराज जी ने हर एक रचना की समीक्षा करते हुए विमोचन किए ।

साहित्य एक नज़र के संरक्षक आ. सुधीर श्रीवास्तव जी , संकलन संपादक के रूप में भूमिका निभाएं है । सह संपादिका – आदरणीया ज्योति सिन्हा , आ. दीप्ति प्रिया व सृष्टि मुखर्जी जी , संकलन – आ. राजीव भारती जी , साहित्य एक नज़र के संस्थापक , संपादक , तकनीक निदेशक , श्री नेहरू शिक्षा सदन टिकियापाड़ा , हावड़ा हिन्दी हाई स्कूल , घुसड़ी श्री हनुमान जुट मिल हिन्दी हाई स्कूल , सलकिया विक्रम विद्यालय , रामकृष्ण महाविद्यालय मधुबनी , ललित नारायण मिथिला विश्‍वविद्यालय – राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वंयसेवक , 31 वीं बंगाल बटालियन एनसीसी फोर्ट विलियम कोलकाता-बी ,कम्पनी -5, पंजीकृत संख्या – WB17SDA112047, नरसिंहा दत्त कॉलेज सेंट जॉन एम्बुलेंस , ( प्राथमिक उपचार ), द भारत स्काउट और गाइड ,पूर्व रेलवे हावड़ा जिला वेरियांग स्काउट और गुलमर्ग गाइड बामनगाछी समूह , सुरेन्द्रनाथ इवनिंग कॉलेज, कोलकाता , कलकत्ता विश्‍वविद्यालय के पूर्व छात्र , विद्यासागर विश्‍वविद्यालय , मेदिनीपुर , पश्चिम बंगाल हिन्दी विभाग प्रथम सेमेस्टर छात्र के छात्र रोशन कुमार झा व घटती हरियाली बढ़ती समस्याएं साझा काव्य संग्रह में सम्मिलित रचनाकारों की सहयोग से साझा काव्य संकलन को तैयार किया गया है।

इस संकलन में आ. राजीव भारती जी , आ. कलावती कर्वा जी , आ. संगीता सागर जी , आ. कवि विवेक अज्ञानी जी , आ. नेहा धामा जी , आ. सुधीर श्रीवास्तव जी , आ. रंजना बिनानी जी , आ. राज कु० राम लखन यादव जी , आ. विनीता कुशवाहा जी , आ. ज्योति सिन्हा जी , आ. अरविंद भट्ट जी , आ. कंचन विश्वकर्मा कनक जी ,आ. रंजना लता जी , आ. सीमा शुक्ला चांद जी , आ. सृष्टि मुखर्जी , आ. प्रमोद कु० ठाकुर जी , रोशन कुमार झा , आ. बबिता कुमारी जी , आ. दीप्ति प्रिया जी , आ. रवीशा यादव जी , आ. जगदीश कौर जी , आ. नरेन्द्र प्रसाद सिंह जी , आ. ममता श्रवण अग्रवाल जी , आ. रंजना सिंह जी , आ. ममता प्रीति श्रीवास्तव जी , आ. आरती दीक्षित जी , आ. सुधा देवांगन शुचि जी , आ. विनोद कुमार सीताराम दुबे जी , आ. रश्मि श्रीवास्तव ‘सुकून’ जी , आ. प्रज्ञा आंबेरकर जी , आ. कृष्ण कुमार महतो जी , आ. हंसराज सिंह हंस जी व आ. बृजबाला श्रीवास्तव ‘सुमन’ जी की रचनाएं को सम्मिलित किया गया है ।

यह 78 पृष्ठ वाली साझा काव्य संग्रह है , इसमें 33 सम्मानित साहित्यकारों की रचनाएं सम्मिलित हैं । इस साझा काव्य संकलन में सभी सम्मिलित साहित्यकारों को राष्ट्र गौरव सम्मान से सम्मानित किया गया है । साहित्य एक नज़र की शुभारंभ मंगलवार 11 मई 2021 को रोशन कुमार झा के सहयोग से किया गया रहा , आज साहित्य एक नज़र अपने सम्मानित 1900 साहित्यकारों के साथ अंक 202 , साहित्य एक नज़र मधुबनी इकाई से মিথি LITERATURE , मिथि लिट्रेचर मैथिली मासिक पत्रिका व विश्‍व साहित्य संस्थान वाणी मासिक पत्रिका का प्रकाशन किया जाता है । इस काव्य संकलन के सभी रचनाएं पर्यावरण के विभिन्न रूप को दर्शा रहे है अतः आप सभी सम्मानित साहित्य प्रेमियों से आग्रह है कि एक बार घटती हरियाली बढ़ती समस्याएं साझा काव्य संकलन पढ़कर पर्यावरण के पहरेदार बनें।

बस तुम्ही हो बस तुम्ही हो -गोपाल

विमोचन के अवसर पर संकलन में शामिल रचनाकारों सहित अनेक कवियों/कवयित्रियों गणमान्य लोंगो के साथ नव साहित्य परिवार भारत के संस्थापक आ. अमित कुमार बिजनौरी की भी उपस्थिति रही।
World of writers

Share

2 thoughts on “घटती हरियाली बढ़ती समस्याएं का विमोचन”

Leave a Comment