ये रिश्ता है प्यार का-सीताराम पवार की रचना

*ये रिश्ता है प्यार का*
“मिलना सबसे होशोहवास मे मगर सब पर एतबार मत करना”
********
ये रिश्ता है प्यार का इसको तार-तार मत करना

इस रिश्ते के लम्हों का कभी व्यापार मत करना।

रंजो गम जुदाई और तन्हाई अगर सह ना सको

तो खुदा कसम कभी किसी से प्यार मत करना।

ये रिश्ता है प्यार का ये किस्मत वाले को मिलता है

बेपनाह प्यार जो तुमसे करता है तुम भी इंकार मत करना।

जिंदगी में कई लोग मिलेंगे कहीं ज्यादा तो कहीं कम

मिलना सबसे होशोहवास मे मगर सबपर ऐतबार मत करना।

मिली है जिंदगी तुम्हे भी प्यार करने के ही मकसद से

जो प्यार का दिखावा करें ऐसे प्यार का इकरार मत करना

मोहब्बत करने वाला तो जान देने को भी तैयार रहता है

लेकिन जो प्यार मे तम्हे धोखा दे उसका दीदार मत करना।

वो गलतफहमी मे है वो बस मुझसे ही तो प्यार करता है

इस गलतफहमी में अपने आपको बेकरार मत करना।

सीताराम पवार
उ मा वि धवली
जिला बड़वानी
9630603339

Share

Leave a Comment